पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में खुदाई के दौरान भगवान बुद्ध की एक प्राचीन प्रतिमा मिली। कुछ लोगों ने इसे हथौड़े से तोड़ दिया। बताया जाता है कि यह मूर्ति तीन सदी पुरानी है। घटना के मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किए जाने का भी दावा किया गया है। सरकार ने इस बारे में कोई बयान जारी नहीं किया।

स्थानीय नेता ने उकसाया
मीडिया रिपोर्ट्स के दौरान, तख्त-ए-बही इलाके में कुछ दिनों पहले मकान बनाने के पहले खुदाई की जा रही थी। इसी दौरान ठेकेदार और उसके तीन मजदूरों को एक लेटी हुई बुद्ध प्रतिमा नजर आई। बात फैली तो एक वहां एक लोकल कट्टरपंथी नेता पहुंचा। उसने मजदूरों से प्रतिमा को तोड़ने को कहा। स्थानीय पुलिस ने कहा- अभी यह साफ नहीं कहा जा सकता कि किसके कहने पर प्रतिमा तोड़ी गई।

वीडियो भी सामने आया
इस घटना का एक वीडियो भी सामने आया है। इसमें एक शख्स मजदूर से मूर्ति तोड़ने को कह रहा है। वह हाथ से मूर्ति पर लगी मिट्टी भी हटाता है। पुलिस ने शुरुआती जांच के बाद चार लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस का कहना है कि इस बारे में पहले आर्कियोलॉजी डिपार्टमेंट को जानकारी दी जानी थी। लेकिन, संबंधित लोगों ने ऐसा नहीं किया। लिहाजा, इनकी गिरफ्तारी की गई है।वीडियो स्थानीय भाषा में है। लिहाजा, इसमें बातचीत समझ नहीं आती।

1700 साल पुरानी मूर्ति
पुलिस ने पूरे इलाके को अपने कब्जे में ले लिया है। जानकारी के मुताबिक, यह मूर्ति करीब 1700 साल पुरानी है। तोड़े जाने से पहले यह काफी अच्छी हालत में थी। पुलिस ने आर्कियोलॉजीडिपार्टमेंट को इसकी जानकारी दी है। अब यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि इस इलाके में कुछ ऐसी ही और प्रतिमाएं तो नहीं दबीं। खैबर में पहले श्रीलंका, जापान और दक्षिण कोरिया से लोग आते रहे हैं।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
फोटो उस वीडियो से लिया गया है जो सोशल मीडिया पर वायरल है। इसमें कुछ लोग बेशकीमती बुद्ध प्रतिमा को तोड़ते नजर आ रहे हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/39euzep
via IFTTT