कोरोना संकट के चलते लोग वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं। इस दौरान वे न सिर्फ रसोई में खाना बनाने के शौक को पूरा रहे हैं, बल्कि रेडी-टू-कुक फूड बनाकर घर में ही बाहर के खाने का मजा भी ले रहे हैं। इसके चलते अप्रैल से जून की तिमाही में रेडी-टू-कुक और रेडी-टू-ईट फूड प्रोडक्ट्स की बिक्री में खासी बढ़ोतरी देखने को मिली है।

फ्रेश पैकेज्ड फूड के एक ब्रांड के पराठे की बिक्री इससे पिछली तिमाही के मुकाबले 60% बढ़ी है। वहीं, मीट प्रोडक्ट्स और सीफूड के एक ब्रांड के रेडी-टू-ईट मीट की बिक्री में 300% से अधिक इजाफा हुआ है। रेडी-टू-ईट कबाब, मैरिनेटेड मीट और सीफूड की की बिक्री दो गुना तक बढ़ी है।

अप्रैल से जून में उपभोक्ता खर्च में 61% की वृद्धि हुई

रेडसीर कंसल्टिंग एंड रिसर्च के अनुसार, अप्रैल से जून तिमाही में घर में खाना पकाने पर उपभोक्ता खर्च में 61% की वृद्धि हुई है। इसकी मुख्य वजह कोरोना संक्रमण बढ़ने के बीच घर के बाहर भोजन की उपलब्धता का कम होना है। रेडी-टू-हीट सेगमेंट में इडली के घोल (बैटर) और पनीर की बिक्री में खासी बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

आईडी फ्रेश के यहां ऐसे आइटम्स की बिक्री पिछली तिमाही में 20% तक बढ़ी है। इस फील्ड के विशेषज्ञों के मुताबिक, पिछले तीन माह में घर पर भोजन बनाने वाले लोगों की संख्या में भारी इजाफा हुआ है। देश में तेजी से फैल रहे कोरोना की वजह से ग्राहक बेहतर क्वालिटी और सुरक्षित फूड प्रोडक्ट्स लेना पसंद कर रहे हैं।

अमूल ने लॉन्च किए हल्दी दूध, पंचामृत औररसमलाई

अमूल के यहां रसमलाई जैसी पैकेज्ड मिठाइयों की बिक्री बढ़ी है। जीसीएमएमएफ के एमडी आरएस सोढ़ी कहते हैं, हम ऐसे आइटम्स के उत्पादन के लिए एक नया प्लांट लगा रहे हैं जिन्हें अब तक आंशिक रूप से तीसरे पक्ष द्वारा बनाया जाता था। पिछले कुछ महीनों में अमूल ने जो प्रोडक्ट लॉन्च किए हैं उनमें हल्दी दूध, पंचामृत, रसमलाई और गुलाब जामुन जैसी मिठाइयां शामिल हैं।

ईकॉमर्स कंपनियों से दोगुना हुआ कारोबार
आईडी फ्रेश के को-फाउंडर पीसी मुस्तफा कहते हैं बिगबास्केट जैसी ईकॉमर्स कंपनियों से हमारा कारोबार दोगुना हो गया है। ग्रोफर्स के को-फाउंडर सौरभ कुमार के मुताबिक उनके ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर रेडी-टू-कुक और रेडी-टू-ईट आइटम्स की बिक्री 1.7 गुना बढ़ी है।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
इस फील्ड के विशेषज्ञों के मुताबिक, पिछले तीन माह में घर पर भोजन बनाने वाले लोगों की संख्या में भारी इजाफा हुआ है। -प्रतीकात्मक फोटो


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3eJi6k2
via IFTTT