फोटो मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले की है। यहां की बौकना पंचायत ने ग्रामीणों के विरोध के बावजूद मगढार नदी के बीच में मुक्तिधाम का निर्माण कर दिया। इसलिए मुक्तिधाम में साल में छह महीने पानी बहता रहता है। दो साल पहले बने इस स्थान पर अब तक एक भी ग्रामीण का अंतिम संस्कार नहीं किया गया है। इस बात की शिकायत गांव के उपसरपंच ने जनपद सीईओ, एसडीएम, जिला पंचायत सीईओ से की पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

मजदूरों के लिए सतलुज किनारे बनाया क्वारैंटाइन सेंटर

ये है हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले के रिकांगपिओ में नेशनल हाईवे-5 पर सतलुज नदी के किनारे बनाया गया क्वारैंटाइन सेंटर। आम दिनों में यहां से रेत और बजरी का खनन किया जाता है। दूसरे राज्यों से आने वाले मजदूरों के लिए यह व्यवस्था ठेकेदारों ने की है। इनमें नेपाल, बिहार से आए मजदूर रह रहे हैं जिन्हें 14 दिन इन टैंटों में क्वारैंटाइन होना होगा। यहां लगाए गए 20 टैंटों में 60 मजदूर रह रहे हैं। हर टैंट में 3-4 मजदूर रह रहे हैं। यहां फिलहाल बारिश नहीं हो रही है। अगर बारिश होती है तो सतलुज में पानी बढ़ने से सेंटर तक पानी आ सकता है।

रोडवेज ने दूसरे राज्यों से मांगी एनओसी

हरियाणा राज्य परिवहन की बसें जल्द ही सभी पड़ोसी राज्यों तक जाएंगी। इसके लिए तैयारियां तेजी से चल रही हैं। हरियाणा राज्य परिवहन विभाग ने प्रदेश के पड़ोसी राज्यों हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, जम्मू-कश्मीर, नई दिल्ली को ई मेल के जरिए लिखा है कि वे अपने राज्यों में रोडवेज की बसों के संचालन की अनुमति प्रदान करें। इससे पहले भी विभाग की ओर से इस तरह का पत्राचार किया जा चुका है, लेकिन पड़ोसी राज्यों ने एनओसी नहीं दी थी।

सूखे कुएं में चार दिन भूखा-प्यासा रहा युवक

फोटो राजस्थान के दौसा जिले के समीप भांडारेज मोड़ की है। जसोता निवासी महेंद्र कुमार बावरिया ने बताया कि 4 दिन पहले वह रास्ते में पानी भर जाने के कारण रात में डंडे के सहारे सड़क की ओर जा रहा था, तभी पैर फिसल से 20 फुट गहरे सूखे कुएं में गिर पड़ा। सुनसान जगह के कारण ग्रामीणों को युवक के गिरने का पता ही नहीं चला।

गुरुवार सुबह दिगंबर कॉलेज के समीप रहने वाले मूर्तिकारों का परिवार मकान की छत पर गया। इस दौरान कुएं से आवाज सुनाई दी तो आस-पड़ोस के लोगों को जानकारी दी। पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने ग्रामीणों के सहयोग से उसे बाहर निकाला और जिला अस्पताल में भर्ती कराया।

कोविड के चलते देर से यात्रा शुरू

श्री हेमकुंड साहिब की पवित्र यात्रा वीरवार को गुरुद्वारा श्री गोविंद घाट (जिला चमौली) से पांच प्यारों की अगुवाई में शुरू हुई। इस बार यात्रा को कोविड के चलते देर से शुरू किया गया है। यात्रा हर साल मई माह में शुरू हो जाती थी जो अक्टूबर तक चलती है। यात्रा में शामिल होने आने वालों के लिए कोविड निगेटिव टेस्ट के अलावा ई-पास जरूरी किया गया है। अगर किसी श्रद्धालु के पास ई-पास व कोविड निगेटिव सर्टिफिकेट न हुआ तो उसे किसी समय भी क्वारैंटाइन किया जा सकता है। पवित्र यात्रा के लिए ट्राईसिटी सहित पूरे देश की संगत यहां से जाती है।

मेक्सिको दूतावास से दो पर्यटक पहुंचे ओरछा

कोरोना काल के चलते पिछले 5 महीने से पर्यटन नगरी ओरछा में मंदी और बेरोजगारी की मार झेल रहे पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों के चेहरे पर गुरुवार को खुशी दिखाई दी। जब उन्हें पता चला कि पुरातत्व विभाग भोपाल द्वारा ओरछा के पुरातत्वीय स्मारकों को खोले जाने के आदेश जारी हो गए हैं। साथ ही गुरुवार को मेक्सिको से ओरछा घूमने पहुंचे विदेशी पर्यटकों को देख लोगों में एक बार फिर उम्मीद की नई किरण जगी है।

तीरंदाज दीपिका के पिता अब भी चलाते हैं ऑटो

ये हैं पद्मश्री और नंबर-1 तीरंदाज दीपिका कुमारी के पिता शिवनारायण महतो। अब तक इन्होंने अपना पुराना काम ऑटो चलाना नहीं छोड़ा है। गुरुवार को उनकी ऑटो में आगे की सीट पर एक पुलिसवाला बैठ गया। रातू रोड पर दुर्गा मंदिर के पास ट्रैफिक पुलिस ने रूटीन चेकिंग के दौरान उन्हें रोका। इनकी सादगी देखिए...पुलिसवाले के सामने हाथ जोड़ लिए। जब पुलिस अफसर को पता चला कि वह दीपिका के पिता हैं तो बिना कुछ कहे उन्हें जाने दिया।

कोरोना से बचें, तभी आएगी चैन की नींद

चंडीगढ़ सेक्टर-17 में इमारतों को उनके ओरिजनल लुक में लाने पर काम चल रहा है। कोरोना से बचने के लिए पूरी एहतियात के साथ यह काम किया जा रहा है। वीरवार को एक मजदूर दोपहर को लंच टाइम में शटरिंग के बीच में थोड़ी देर के लिए चैन की नींद सो रहा था। यह सभी के लिए एक सीख भी है। क्योंकि हम मास्क लगाकर, उचित दूरी बरतकर और जिंदगी में अनुशासन रखकर कोरोना से दूरी बनाकर रख सकते हैं। इसलिए अच्छा खाएं। डाइट का पूरा ध्यान रखें। फिर चाहे कोरोना कितना भी फैले, हम बचे रहेंगे और चैन की नींद भी आती रहेगी।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
The act of Panchayat in Chhatarpur, Madhya Pradesh: Muktidham, built in the river, remains submerged in water for 6 months; Hemkud Sahib's journey begins; Monuments of Orchha will open from today


from Dainik Bhaskar /national/news/the-act-of-panchayat-in-chhatarpur-madhya-pradesh-muktidham-built-in-the-river-remains-submerged-in-water-for-6-months-hemkud-sahibs-journey-begins-monuments-of-orchha-will-open-from-today-127684449.html
via IFTTT