चीन से चल रहे विवाद के बीच लद्दाख स्थित पैंगॉन्ग झील के दक्षिणी किनारे की प्रमुख चोटियों के कुछ अहम मोर्चों पर भारतीय सेना के जवानों ने झंडा गाड़ दिया है। इस इलाके के आसपास के गांव के लोग भारतीय जवानाें की मदद कर रहे हैं। चुशूल गांव के करीब 60 लोग ब्लैक टॉप माउंटेन पर पानी और आवश्यक वस्तुओं पहुंचा रहे हैं।

पहले भारतीय सेना ने प्रत्येक घर से एक व्यक्ति को पोर्टर के रूप में काम पर रखा था। इसके लिए उन्हें भुगतान किया जाता था। लेकिन अब लोगों ने भारतीय सेना का साथ देने के लिए मुफ्त सेवा की पेशकश की है। आज पांचवें दिन लगातार चुशूल के लाेगाें ने अपनी सेवाएं दीं। रविवार से मान मरक गांव के ग्रामीण यह काम करेंगे।

इस इलाके के आसपास करीब 170 परिवार रहते हैं।

सेना के ट्रक आधे रास्ते तक पानी ले जाते हैं। उसके बाद स्वयंसेवकों को ब्लैक टॉप माउंटेन के शीर्ष तक लगभग 3 से 4 किलोमीटर तक पानी और अन्य जरूरी सामान ले जाना पड़ता है। चुशूल गांव ब्लैक टॉप के सबसे नजदीक है। यहां करीब 170 परिवार रहते हैं।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
चुशूल गांव के करीब 60 लोग ब्लैक टॉप माउंटेन पर पानी और आवश्यक वस्तुओं पहुंचा रहे हैं।- फोटो मोरूप स्तनजिन


from Dainik Bhaskar /national/news/the-people-of-the-villages-are-helping-our-soldiers-standing-on-the-black-top-carrying-the-logistics-on-the-shoulders-127690910.html
via IFTTT