दुनिया कोरोनावायरस से जूझ रही है। हमने साल 2020 का आधे से ज्यादा वक्त संक्रमण के डर में गुजार दिया है। इसी महामारी के दौरान हम पहली बार वर्ल्ड वेजिटेरियन डे भी मना रहे हैं। कोरोना की शुरुआत में कहा जा रहा था कि यह चमगादड़ों के जरिए फैला। बाद में इसमें पेंगोलिन का नाम भी शामिल हुआ।

हालांकि, यह जानना जरूरी है कि क्या मांस खाने की आदत इंसान के लिए जानलेवा भी बनी हुई है। वैज्ञानिक इस बात की चेतावनी देते हैं कि कोरोनावायरस के बाद भी हमें कई महामारियों का सामना करना पड़ेगा। ऐसे में हमें जानवरों से फैलने वाली बीमारियों पर गौर करने की जरूरत है।

4 में से 3 नए संक्रमण जानवरों से आते हैं

  • सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुताबिक, हम रोज कई तरह से जानवरों के संपर्क में आते हैं, लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि जानवरों में रहने वाले कुछ जर्म्स आपको बीमार भी कर सकते हैं। जानवरों के जरिए इंसानों तक पहुंचने वाले जर्म्स से होने वाली बीमारियों को जूनोटिक बीमारी कहते हैं। इन जर्म्स के कारण मौत भी हो सकती है।
  • सीडीसी के अनुसार, जूनोटिक बीमारियां काफी आम होती हैं। वैज्ञानिकों ने यह अनुमान लगाया है कि 10 में से 6 से ज्यादा संक्रमण जानवरों के जरिए इंसानों में फैल सकती है। इसके अलावा हर 4 नए या उभरते संक्रामक रोगों में से 3 जानवरों से आता है। यह जर्म्स खाने की वजह से भी फैल सकते हैं।

आपके नॉन वेज खाने के कारण लोग भूखे रहते हैं

  • पेटा के मुताबिक, भोजन के लिए जानवरों को पैदा करना या पालना काफी खराब है, क्योंकि जानवर ज्यादा अनाज खाकर थोड़ा मीट, डेरी प्रोडक्ट या अंडे उपलब्ध कराते हैं। वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है कि जानवरों को एक किलो मांस के लिए 10 किलो तक अनाज खिलाना पड़ता है।
  • वर्ल्ड वॉच इंस्टीट्यूट के अनुसार, दुनिया में जहां हर 6 में से 1 व्यक्ति रोज भूखा रहता है। ऐसे में मीट का प्रोडक्शन करना अनाज का गलत उपयोग होता है। अगर अनाज का इस्तेमाल सीधे इंसान ही करे, तो यह ज्यादा असरदार होगा।
  • पेटा की वेबसाइट बताती है कि प्लांट बेस्ड डाइट दुनिया में भुखमरी को खत्म कर सकती है। 2050 तक अनुमानित 900 करोड़ लोगों के लिए धरती पर पर्याप्त खाना होगा। हालांकि, ऐसा तभी मुमकिन होगा, जब अनाज का 40% उत्पादन भोजन के लिए पाले गए जानवरों के बजाए सीधे इंसानों के ही काम आए।
  • इसके अलावा दुनिया के कई हिस्से पानी की कमी से जूझ रहे हैं। ऐसे में मीट खाना उन लोगों की परेशानी और बढ़ा सकता है। पेटा इंडिया के अनुसार, एक शुद्ध वेजिटेरियन भोजन के लिए रोज 1137 लीटर पानी की जरूरत होती है, लेकिन मीट आधारित भोजन के लिए रोज 15 हजार लीटर से ज्यादा पानी की जरूरत होती है।

कई बीमारियों का कारण भी है मांसाहार
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अनुमान लगाया है कि हर साल जूनोसिस के कारण करीब 100 करोड़ लोग बीमारियों का शिकार होते हैं और इनमें से लाखों लोग अपनी जान गंवा देते हैं। पेटा के मुताबिक, आपकी थाली में शामिल मीट, डेरी प्रोडक्ट्स और अंडों के कारण आप दिल की बीमारियों, मोटापा, कैंसर, डायबिटीज और यहां तक कि नपुंसक भी हो सकते हैं। शोधकर्ताओं ने पाया है कि वेजिटेरियन डाइट लेने वाले लोगों में कुछ तरह कैंसर की संभावना 50% तक कम हो जाती है।

अगर आप भी वेजिटेरियन डाइट अपनाना चाहते हैं तो यह कुछ टिप्स मददगार हो सकती हैं....

  • मोटिवेट रहें: अगर आपने अपनी प्लेट से नॉन वेज डाइट को हटाना चाहते हैं, तो आपको इसके लिए अच्छे कारण की जरूरत होगी। यह कारण ही आपको वेज डाइट पर रहने के लिए मोटिवेट करेगा। ऐसे में पहले यह पता कर लें कि आप नॉनवेज क्यों छोड़ना चाहते हैं।
  • अच्छी रेसिपी तलाशें: नॉन वेज छोड़ने के कारण हो सकता है कि आप स्वाद को लेकर परेशान रहें। ऐसे में अच्छी वेजिटेरियन रेसिपी आपकी मदद कर सकती हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि आप एक साथ कई किताबें खरीद लें। इसके लिए आप इंटरनेट की मदद ले सकते हैं। एक-एक कर रेसिपी बनाने के कारण आपकी प्लेट में नयापन होगा और स्वाद भी बना रहेगा।
  • धीरे-धीरे नॉन वेज छोड़ें: वेजिटेरियन डाइट की तरफ जा रहे हैं और नॉनवेज एकदम नहीं छोड़ पा रहे हैं तो धीरे-धीरे अपनी डाइट में वेज की मात्रा बढ़ाएं। हर हफ्ते नई वेज रेसिपी इस काम में आपकी मदद कर सकती है। नॉन वेज छोड़ने की शुरुआत रेड मीट से करें। इसके बाद आने वाले हफ्तों में दूसरे तरह के मांसाहार को भी पूरी तरह बंद कर दें।
  • नया डाइट प्लान बनाएं: आप जो भी खाना रोज खाते हैं, उसकी एक लिस्ट तैयार करें। इस लिस्ट में आपकी प्लेट की हर जरूरी चीज को शामिल करें। इसके बाद देखें कि आपकी पुरानी नॉन वेज डाइट के वेज विकल्प क्या हो सकते हैं। नए विकल्पों की मदद से नई लिस्ट तैयार करें, जिसमें केवल वेज डाइट शामिल हो।
  • जंक फूड से बचें: वेजिटेरियन डाइट शुरू करने से आपको जंक फूड खाने का लाइसेंस नहीं मिल जाता है। हो सकता है कि नॉन वेज नहीं खाने के कारण जंक फूड की तरह ज्यादा अट्रैक्ट हो जाएं। अगर ऐसा हो रहा है तो अपनी डाइट में फलों और सब्जियों की मात्रा को बढ़ा दें। इसके अलावा साबुत अनाज, बीन्स, नट्स, सोया प्रोटीन और दूसरे पोषण आपकी मदद कर सकते हैं।
  • दूसरे देशों के खाने का स्वाद: वेजिटेरियन बनने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपको इससे नई चीजों को ट्राय करने की प्रेरणा मिलती है। इस बात का फायदा उठाएं और इंटरनेट या रेसिपी बुक्स की मदद से नए देशों की वेज रेसिपी का स्वाद लें। इटली के पास्ता से लेकर भारत के भोजन, मसालेदार थाई भोजन से लेकर चीनी, इथियोपिया, मैक्सिको समेत कई जगहों के वेज खाने का मजा ले सकते हैं।
  • परिवार और दोस्तों की भूमिका: अगर आप वेजिटेरियन बनने जा रहे हैं, तो आपको परिवार और दोस्तों से इस बारे में बात करनी होगी। क्योंकि नॉन वेज बंद करने के बाद भी आप उनके साथ खाना तो खाएंगे ही। ऐसे में उन्हें इस बात की जानकारी देना आपके लिए मददगार होगा, ताकि अगली बार जब भी आप उनके साथ खाना खाएं तो आपके लिए वेज डिश मौजूद हो। कई बार लोग आपके इस फैसले को नहीं समझेंगे, लेकिन बिना बहस किए उन्हें अपनी बात समझने के लिए कहें।
  • मजा लें: यह सबसे ज्यादा जरूरी है कि आप अपनी डाइट में आए बदलाव का मजा लें। क्योंकि, अगर आप इस बात को लेकर दुखी रहेंगे, तो आपको हमेशा यही महसूस होगा कि कुछ मिस कर रहे हैं, जबकि ऐसा नहीं है। आपने वेजिटेरियन रहना चुना है। इस बात का मजा लें और खुश रहें। लगातार अच्छा खाना खाते रहना इस काम में आपकी मदद कर सकता है।

वेजिटेरियन और वीगन में क्या फर्क है?
हमनें वेजिटेरियन और वीगन शब्द कई बार सुने हैं, लेकिन इनके मतलब को लेकर हमेशा एक कंफ्यूजन रहती है। पेटा के मुताबिक, वेजिटेरियन डाइट लेने वाले लोग किसी भी जानवर को अपनी डाइट में शामिल नहीं करते हैं। जबकि, वीगन जानवरों से मिलने वाले किसी भी चीज का सेवन नहीं करते, जैसे- अंडे, दूध, पनीर।

हालांकि, पेटा वीगन अपनाने पर ज्यादा जोर देता है। संस्था की वेबसाइट के मुताबिक, लोगों को लगता है कि डेयरी प्रोडक्ट्स में क्रूरता नहीं होती, लेकिन ऐसा नहीं है। डेयरी उत्पादों के लिए भी जानवरों को मीट की तरह ही परेशान किया जाता है।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
People are hungry due to your non- veg diet, 15 times more wastage of water in meat diet; 8 ways to help you in eating veg food


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/33j5bmB
via IFTTT